पुरानी पेंशन की लड़ाई को देंगे नया आयाम-कृष्णकांत

0 शिक्षक संघ के शिकायत प्रकोष्ठ का होगा पुनर्गठन
कोंच-उरई। उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ विकास खंड नदीगांव की मासिक बैठक कन्या प्राथमिक विद्यालय रेंढर में विकास खंड नदीगांव के अध्यक्ष कृष्णकांत वाजपेयी की अध्यक्षता एवं संरक्षक रणवीर सिंह उर्फ पंजाब सिंह के मुख्य आतिथ्य में संपन्न हुयी।
बैठक को संबोधित करते हुये वाजपेयी ने कहा कि वर्तमान में शासन द्वारा नवीन पेंशन प्रणाली को जुलाई 2016 से प्रभावी बनाने का निर्देश किया गया है जबकि शिक्षक संघ द्वारा पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू करवाने की मांग लगातार की जा रही है जिसे दरकिनार करके नवनियुक्त शिक्षक साथियों के भविष्य के साथ जो खिलवाड़ किया जा रहा है उसका संघ पुरजोर विरोध करता है, साथ ही जिलाध्यक्ष महेन्द्र सिंह भाटिया के नेतृत्व में प्रदेशीय नेतृत्व से शीघ्र वार्ता कर इसका समूचे प्रदेश में युद्धस्तर पर विरोध की मांग नदीगांव का शिक्षक करेगा क्योंकि यह शिक्षक का अधिकार है। पुरानी पेंशन की लड़ाई को एक नया आयाम देना आवश्यक है तभी शिक्षक समुदाय की विजय होगी। इसके साथ नदीगांव के शिक्षकों की समस्याओं के लिये एक प्रकोष्ठ गठित किया जायेगा जिसमें युवा शिक्षक होंगे जो जिलास्तर तक शिक्षक समस्याओं का प्रेषण करवाने हेतु सहयोग करेंगे ।
मुख्य अतिथि रणवीर सिंह ने कहा कि युवाओं का युग है लेकिन बिना बुजुर्गों के युवाओं का जोश दिशाहीन हो सकता है, जीवन में अनुभव का बिशेष महत्व होता है जोकि एक बुजुर्ग ही दे सकता है। अतरू समस्त नवनियुक्त शिक्षक धैर्य रखें संगठन द्वारा प्रत्येक लड़ाई हमेशा जीती गयी है बस उचित समय का इंतजार करना और संगठन के प्रति समर्पित रहना ध्येय होना चाहिये। बैठक का संचालन संघ के मंत्री प्रेमचन्द निरंजन एवं कोषाध्यक्ष राजेन्द्र सोनी ने संयुक्त रूप से किया। इस अवसर पर लल्लूराम कुशवाहा, अजय सिंह, महेश दिरावटी, महेश भेंड़, सुबोध निरंजन, राजेश निरंजन, गणेश कुशवाहा, जितेन्द्र मोहन, वरूण चतुर्वेदी, महेन्द्र कुमार निरंजन, हरेकृष्ण, श्रीमती इंदिरा देवी, श्रीमती सरला देवी, श्रीमती कमला देवी समेत आधा सैकड़ा शिक्षक शिक्षिकायें उपस्थित रहे।

Share Button

जनता के हिस्से की बिजली चाट रहा है बिजली विभाग

0 रोस्टिंग ऑवर्स के अलावा कटने वाली बिजली आखिर किस खाते में..?
0 तानाशाही पूर्ण रवैये पर उतरा है बिजली विभाग
कोंच-उरई। बिजली विभाग अब पूरी तरह से तानाशाही पर उतर आया है, वह जनता के हिस्से की बिजली चाट तो रहा है लेकिन इसका जबाब भी नहीं देना चाहता। चार घंटे कल शाम और दो घंटे आज दोपहर सप्लाई ऑवर्स की बिजली चट कर गया विभाग और पूछने पर जबाब भी नहीं दिया एसडीओ ने, कहा कि कंट्रेल रूम से बात करिये। अब यह बात समझ से परे है कि लोकल कटौती का हिसाब कंट्रेल रूम कैसे देगा और क्यों देगा जब स्थानीय स्तर पर उसने एसडीओ जैसा जिम्मेदार अधिकारी बिठा रखा हो?
विद्युत विभाग के एसडीओ के रवैये से पूरी जनता परेशान है क्योंकि वह स्थानीय स्तर पर आने बाली बिजली संबंधी किसी भी गड़बड़ी का जबाब देने के बजाये ढीठता अपना लेते हैं। उनका यह रवैया न केवल आम जनता के प्रति है बल्कि प्रशासन में बैठे अधिकारी भी इस रवैये के शिकार हैं, जैसा कि अमूमन प्रशासन द्वारा बुलाई जाने बाली बैठकों में दिखाई देता है, लेकिन उनकी अपनी मर्यादायें और सीमायें हैं जिसके चलते एसडीओ झेले जा रहे हैं लेकिन यह स्थिति जनता शायद ही बर्दाश्त कर सके। अंदर ही अंदर जनता उबल भी रही है लेकिन एसडीओ महोदय को सरकारी आदमी होने का जो लाभ मिल रहा है उसने उन्हें निश्चित रूप से उच्छृंखल बना दिया है। डर इस बात का है कि कहीं उनका बर्ताव किसी अनचाहे बबाल का कारण न बन जाये। जनता किसी भी अव्यवस्था का कारण जानना चाहती है और एसडीओ जबाब देने में अपनी तौहीन समझते हैं कस्बे के सेकंड फीडर की बत्ती आज दोपहर दिन में 1 बजे से गुल है जबकि रोस्टिंग का समय शुरू होता है 3 बजे से। यह दो घंटे की अनावश्यक कटौती किस खाते में दर्ज की गई है, इस सवाल पर एसडीओ का जबाब जनता को कारण बताने के बजाये कंट्रोल रूम से बात करने का रहा। सवाल यह है कि एसडीओ किस लिए उपखंड पर बिठाये जाते हैं, इसका जवाब विभाग के बड़े अधिकारी दें तो जनता को अपनी सीमायें आंकने में निश्चित रूप से सहूलियत होगी। आला अधिकारियों को कोंच उपखंड में एसडीओ की तैनाती का औचित्य भी जरूर बताना चाहिये। एक और बड़ा सवाल यह भी है कि जिले के एक्सईएन और एसई महोदय उन सवालों की फेहरिश्त जरूर उपखंड कार्यालय पर चस्पा करायें जिनके जबाब एसडीओ नहीं देंगे क्योंकि ऐसी भीषण सड़ी और उमस भरी जानलेवा गर्मी में जब बिजली विभाग कटौती के एक एक मिनट का हिसाब रखता है तो जनता के हिस्से की कई कई घंटों की अघोषित कटौती का हिसाब भी उसे जनता को देना ही होगा, लेकिन सवाल वह किससे करे? बिजली विभाग के स्थानीय अधिकारियों का संवेदनहीनता से परिपूर्ण रवैया ही जनता के उग्र होकर सड़कों पर आने का कारण बनता है, और झेलना पड़ता है प्रशासन के साथ साथ खुद जनता को भी। उम्मीद है कि बिजली विभाग के आला अधिकारी ऐसे संवेदनशून्य अधिकारियों को आम जनता से बात करने का सलीका जरूर सिखायेंगे ताकि उनका बोलचाल जनता के बिजली कटौती को लेकर उपजने बाले गुस्से की आग में घी का काम न करे और एसडीओ साहब जिस बात की तनख्वाह ले रहे हैं उसका भी निर्वहन होता रहे।

Share Button

छूटे हुए क्षेत्र पंचायत सदस्यों को शपथ के बहाने विधानसभा चुनाव की तैयारियां

 

28orai06विधानसभा चुनाव के लिए सपा ने ग्रामीण जनप्रतिनिधियों पर डोरे डाले
4080उरई। महेबा में छूटे हुए क्षेत्र पंचायत सदस्यों को शपथ के बहाने विधानसभा चुनाव की तैयारियों के लिए सपा का शो आयोजित हुआ जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में पार्टी के प्रत्याशी विष्णुपाल सिंह नन्हू राजा ब्लाॅक सभागार में मंचासीन रहे।
दूसरी पार्टियां जहां अभी तक जिले की किसी भी सीट पर प्रत्याशी तय नहीं कर सकीं वहीं सपा ने कालपी और माधौगढ़ में प्रत्याशियों के नाम फाइनल करके समर्थन जुटाने का अभियान भी छेड़ दिया है। कालपी क्षेत्र के प्रत्याशी विष्णुपाल सिंह नन्हूराजा ने अपने जनसंपर्क अभियान को युद्ध स्तरीय रूप देते हुए मंगलवार को कुठौंद और महेबा में क्षेत्र पंचायत की बैठकों में भाग लेकर ग्रामीण जनप्रतिनिधियों पर सपा सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का बखान करते हुए डोरे डाले।
महेबा में उन्होंने ब्लाॅक सभागार में बताया कि राज्य सरकार ने सूखे को देखते हुए जिले में लोगों को राहत के लिए किस तरह सरकारी खजाने का मुंह खोल दिया। उन्होंने खासतौर से समाजवादी पेंशन योजना, समाजवादी खाद्यान्न पैकेट वितरण, अंत्योदय एवं पात्र गृहस्थियों को निःशुल्क खाद्यान्न वितरण और किसान दुर्घटना बीमा योजना का क्लेम सीधा पांच गुना बढ़ाकर पांच लाख रुपये किये जाने जैसे कदमों की जानकारी ग्रामीण जनप्रतिनिधियों को दी और उनसे पार्टी के समर्थन के लिए गुहार लगाई। इस अवसर पर ब्लाॅक प्रमुख नीतू चैधरी ने छूटे हुए सदस्यों को शपथ दिलाई।
कार्यक्रम का संचालन खंड विकास अधिकारी आलोक पांडेय ने किया। जेई संजय श्रीवास्वत, एडीओ पंचायत शिवनाथ पाल, एडीओ समाज कल्याण रमेश चंद्र आदि उपस्थित रहे।

Share Button

ग्रामीण क्षेत्र के सफाई कर्मी ग्रामीणों को रुला रहे

1234
उरई। ग्रामीण क्षेत्र के सफाई कर्मी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान को मुंह चिढ़ा रहे हैं। आये दिन किसी न किसी गांव से लोग पंचायत सफाई कर्मियों का रोना रोने जिला मुख्यालय पर आते हैं।
मंगलवार को कालपी तहसील के कुआंखेड़ा गांव के मजरा दादूपुरा के बाशिंदों की रोने की बारी थी। कमलाकांत, रविकांत, अखिलेश कुमार, अशोक शुक्ला, बृजेंद्र सिंह आदि ने जिलाधिकारी के सामने पेश होकर बताया कि उनकी पंचायत में काशीप्रसाद और राधादेवी की तैनाती सफाई कार्य के लिए है लेकिन चार महीने से दोनों गांव नही आ रहे जिससे गांव में गंदगी का अंबार लग गया है, नालियां बजबजा रहीं हैं और महामारी फैलने की आशंका पैदा हो गई है।

Share Button

विधानसभा चुनाव में केन्द्रो और बूथों की व्यव्स्था की कवायद शुरू

जिलाधिकारी ने राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ एक बार फिर बैठक की

उरई। विधानसभा चुनाव में सुगम मतदान के लिए मतदान केंद्रों और बूथों की सही व्यवस्था की 1123कवायद जारी है। मंगलवार को इस सिलसिले में जिलाधिकारी ने राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ एक बार फिर बैठक की। इसमें जीर्णशीर्ण होने के आधार पर मतदान केंद्रों के परिवर्तित भवनों की संख्या बढ़ाकर 32 कर दी गई है।
जिलाधिकारी संदीप कौर ने बैठक में बताया कि राजनीतिक नेताओं और प्रशासनिक सर्वें से मिले फीडबैक के आधार पर पिछले चुनाव में जिन भवनों में मतदान केंद्र बनाये गये थे अगर उनकी स्थिति जर्जर हो गई है तो चुनाव आयोग के निर्देशानुसार उन्हें बदला जा रहा है। इस क्रम में माधौगढ़ विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत माधौगढ़ तहसील में 6, कोंच तहसील में 1, कालपी विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत जालौन तहसील में 2, कालपी तहसील में 8, इसी तरह उरई विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत उरई तहसील में 10, जालौन तहसील में 2 और कोंच तहसील में 3 पुराने मतदान भवन निरस्त कर दिये गये हैं और उनकी जगह नये भवन तय कर दिये गये हैं।
जिलाधिकारी ने बताया है कि जिस बूथ पर मतदाताओं की संख्या डेढ़ हजार से अधिक हो गई है वहां अतिरिक्त बूथ सृजित करने का फैसला लिया गया है। इस क्रम में माधौगढ़ विधानसभा क्षेत्र में 3 और कालपी विधानसभा क्षेत्र में 2 बूथ बढ़ाये गये हैं जबकि उरई विधानसभा क्षेत्र में बूथ बढ़ाने की कोई आवश्यकता सामने नही आ सकी। इसके साथ ही जिन इलाकों की दूरी अपने मतदान केंद्रों से 2 किलोमीटर से अधिक है उन इलाकों के मतदाताओं के लिए नये मतदान केंद्र खोलने का फैसला लिया गया है। इस मानक के तहत माधौगढ़ क्षेत्र में 1, कालपी क्षेत्र में शून्य और उरई विधानसभा क्षेत्र में 3 मतदान केंद्र बनाये गये।
इस दौरान सदर विधायक दयाशंकर वर्मा, अपर जिलाधिकारी आनंद कुमार, सभी उपजिलाधिकारी, कालपी क्षेत्र के विधायक प्रतिनिधि सुरेंद्र सिंह सरसेला मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

Share Button

ओवैसी की पार्टी जिले में भी दिखाने लगी बुलंदी, बिजली न सुधरी तो हजारों की भीड़ को सड़क पर उतारने का अल्टीमेटम

उरई। ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम ने जिले में भी अपनी पैठ बढ़ा ली है। मजबूत उपस्थिति दर्ज कराने के लिए विधानसभा चुनाव के पहले पार्टी ने आंदोलन, धरना प्रदर्शन जैसे कार्यक्रम आयोजित करने के इरादों का खुलासा किया है।
एआईएमआईएम के जिलाध्यक्ष आरिफ खान ने लोगों की दुखती रग बन चुकी बिजली की समस्या पर गुस्सा जताते हुए एक प्रेस कांफ्रेंस की। उन्होंने कहा कि शहर और पूरे जनपद में बिजली व्यवस्था ध्वस्त है। रमजान के महीने में रोजेदारों के लिए 24 घंटे आपूर्ति देने का वायदा खोखला साबित हो रहा है। गत् दिनों मुहम्मदाबाद में 36 घंटे लगातार बिजली ठप्प रही। जिसके कारण कई रोजेदार बीमार पड़ गये। फिर भी हालात नही सुधारे जा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि अगर जुमा अलविदा के पहले बिजली आपूर्ति की स्थिति दुरुस्त न हुई तो पार्टी हजारों लोगों की भीड़ इकटठी कर जुमा के दिन सड़क पर उतर पड़ेगी जिसकी पूरी जिम्मेदारी सूबे की सरकार और जिले के प्रशासन की होगी। पत्रकार वार्ता में इरफान अंसारी, आसिफ सिददीकी, तौसीफ रहमानी, आसिफ अंसारी, हसन अली, मोहित गुर्जर, दानवीर सिंह, हाजी जियाउददीन, हाजी उबैश बरकाती आदि उपस्थित थे।ओवैसी की पार्टी जिले में भी दिखाने लगी बुलंदी, बिजली न सुधरी तो हजारों की भीड़ को सड़क पर उतारने का अल्टीमेटम
उरई। ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम ने जिले में भी अपनी पैठ बढ़ा ली है। मजबूत उपस्थिति दर्ज कराने के लिए विधानसभा चुनाव के पहले पार्टी ने आंदोलन, धरना प्रदर्शन जैसे कार्यक्रम आयोजित करने के इरादों का खुलासा किया है।
एआईएमआईएम के जिलाध्यक्ष आरिफ खान ने लोगों की दुखती रग बन चुकी बिजली की समस्या पर गुस्सा जताते हुए एक प्रेस कांफ्रेंस की। उन्होंने कहा कि शहर और पूरे जनपद में बिजली व्यवस्था ध्वस्त है। रमजान के महीने में रोजेदारों के लिए 24 घंटे आपूर्ति देने का वायदा खोखला साबित हो रहा है। गत् दिनों मुहम्मदाबाद में 36 घंटे लगातार बिजली ठप्प रही। जिसके कारण कई रोजेदार बीमार पड़ गये। फिर भी हालात नही सुधारे जा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि अगर जुमा अलविदा के पहले बिजली आपूर्ति की स्थिति दुरुस्त न हुई तो पार्टी हजारों लोगों की भीड़ इकटठी कर जुमा के दिन सड़क पर उतर पड़ेगी जिसकी पूरी जिम्मेदारी सूबे की सरकार और जिले के प्रशासन की होगी। पत्रकार वार्ता में इरफान अंसारी, आसिफ सिददीकी, तौसीफ रहमानी, आसिफ अंसारी, हसन अली, मोहित गुर्जर, दानवीर सिंह, हाजी जियाउददीन, हाजी उबैश बरकाती आदि उपस्थित थे।

Share Button

नोडल अफसर डाॅ हरीओम ने दूसरे दिन भी जारी रखा ताबड़तोड़ दौरा

11221123निर्माणाधीन काॅलोनी का निरीक्षण करते हुए डाॅ. हरीओम वहां पड़े सरियों को देखकर चैंक गये
डूडा काॅलोनी के मकानों के हाल पर जताई चिंता

उरई। नौ दिन चले अढ़ाई कोस के मुहावरे को पीछे छोड़ने की होड़ में जल निगम सीएनडीएस लहरियापुरवा में निर्माणाधीन स्लम काॅलोनी को आठ वर्षों में भी पूरा नही कर पाई है। 288 कुल आवासों में 60 आवासों का कार्य अभी भी बकाया है। निरीक्षण के लिए पहुंचे वरिष्ठ आईएएस अधिकारी डाॅ. हरीओम से जब ठेकेदार ने कहा कि सर अगस्त तक सारे आवास कंपलीट हो जायेंगे तो उन्होंने कहा क्यों झूठ बोलते हो। तुम्हारे काम की रफ्तार से तो लगता है कि यह साल पूरी होने तक भी आवास कंपलीट हो पाना मुश्किल है।
जिले के लिए शासन के नोडल अफसर डाॅ हरीओम ने मंगलवार को दूसरे दिन भी जिले में अपना ताबड़तोड़ दौरा जारी रखा। डूडा की लहरियापुरवा में निर्माणाधीन काॅलोनी का निरीक्षण करते हुए डाॅ. हरीओम वहां पड़े सरियों को देखकर चैंाक गये। उन्होंने कहा कि पतंग की तरह के इन सरियों से कितने मजबूत मकान बने होंगे। ठेकेदार ने सफाई दी कि स्टीमेट में आठ एमएम का सरिया लिखा था और यह इतना ही मोटा सरिया है। डाॅ. हरीओम ने उसे लफ्फाजी न करने की हिदायत देते हुए कहा कि यह आठ एमएम का सरिया भी नही है आप लोग धन्य हैं। इसके बाद उन्होंने अपने साथ आई तकनीकी टीम से कहा कि तुम जाकर फ्लैटों को अंदर से देख लो जो कमियां हों पूरी करा दो। मैने अगर अंदर देखा तो मुझे इन लोगों के खिलाफ एक्शन लेना पड़ जायेगा।
इसके पहले डाॅ. हरीओम ने नगर पालिका कार्यालय का निरीक्षण किया। जहां खामियों का अंबार देखकर उनका गुस्सा भड़क गया। उन्होंने जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने वाले पटल के बाबू और कम्प्यूटर आॅपरेटर के खिलाफ कार्रवाई का आदेश जारी कर दिया।
बाद में जालौन जाते हुए उन्होंने कुकरगांव के पुल के एप्रोच रोड का निरीक्षण किया और लोक निर्माण विभाग के अभियंताओं को सही तरीके से काम न करने के लिए फटकार लगाई।

 

Share Button

विदेश में साहित्यिक सम्मान पर कवयित्री डाॅ0 माया सिंह की भव्य जनपद वापसी

IMG-20160628-WA0000

जनपद की प्रथम अन्तराष्टीªय कवयित्री हैं डाॅ0 माया सिंह
उरई। संवेदना साहित्य समिति की अध्यक्षा डा. माया सिंह ‘माया‘ को ‘‘हिन्दी का वैश्विक पर्यावरण’’ के विषय पर दिनांक 11 जून 2016 को इनाल्को सभागार में साहित्यकार पेज्जनो पिकारियो विश्व हिन्दी सेवी सम्मान से अलंकृत किया गया। अन्तर्राष्ट्रªीय साहित्य कला मंच के अध्यक्ष ड0 महेश दिवाकर कार्यक्रम अध्यक्ष डा0 प्राण जग्गी अमेरिका मुख्य अतिथि डा0 जयपाल हि व्यस्त संयोजक डा0 घनश्याम शर्मा डा0 लोरा माओ विभागाध्यक्ष इनाल्को यूनीवर्सिटी विशिष्ट अतिथि डा0 विद्या बिन्दु सिंह डा0 एनीबेसेन्ट डा0 एनीकाश्ता फ्रान्स डा0 जोहरा कश्मीर सहति विश्व के 70 से अधिक देशों के साहित्यकार सम्मिलित हुए। फ्रान्स इटली आदि देशों की साहित्यिक यात्रा की और वहां पर उन्हें जो सम्मान मिला वह उनका व्यक्तिगत सम्मान न हो कर सम्पूर्ण राष्ट्र का सम्मान है हमारेे जनपद जालौन का सम्मान हेै । हमारे नगर उरई का सम्मान है। इसी के तहत सम्मान प्राप्त कर उनके नगरागमन पर सभी साहित्यकारों विद्वतजनों की उपस्थ्तिि में श्रद्धा फाउन्डेशन की ओर से जनपद के प्रतिष्ठित साहित्यकार हरीशचन्द्र त्रिपाठी चंचल के आवास पर आयोजित साहित्य समारोह डा0 माया सिंह ‘‘माया’’ जी को ‘‘साहित्य वाचस्पति सम्मान’’ शाल श्रीफल एवं स्मृति चिन्ह दे कर सम्मानित किया गया ।

इस अवसर पं0 यज्ञदत्त त्रिपाठी मुख्य अतिथि स्ंाचालन पं0 प्रेम नारायण दीक्षित द्वारा किया गया। इस अवसर पर पं0 सुरेशचन्द्र त्रिपाठी प्ंा0 हरिश्चन्द्र त्रिपाठी ‘‘चंचल’’ अनीता कनौजिया, सिद्धार्थ त्रिपाठी आदि कवियों ने अपनी रचनाओं का पाठ किया। समारोह में समाजसेवी अभय द्विवेदी एवं राजीव शर्मा को उनके द्वारा किये जा रहे सामाजिक कार्यों को देखते हुये विशेष अतिथि के रूप में आमन्त्रित कर उनका भी सम्मान किया गया। समारोह का आयोजन श्रद्धा फाउन्डेशन कार्यक्रम के पदाधिकारी हरेन्द्र विक्रम सिंह आयुष शुक्ला व पुरुषोत्तम दास ने किया। इस अवसर पर बोलते हुये राजीव शर्मा ने कहा डा0 माया सिंह ने अपने कुल अपने घर अपने नगर अपने
प्रदेश का ही नहीं अपने देश का नाम रोशन किया है। विश्व साहित्य मंच पर अपना स्थान
बना कर अपने नगर की कीर्ति पताका फहराई है, उसके मुकाबले हम सबने उनका जो सम्मान किया है वह नगण्य है माया जी का जितना सम्मान किया जाये वह कम है। कार्यक्रम
में उपस्थित सभी विद्वत जनों ने उन्हें शुभ कामनायें दी।

Share Button

उपलब्ध संसाधनों में दोनों अस्पताल बेहतर काम करते दिख रहे हैं- डाॅ. हरीओम

bn bgउरई। जिले के लिए नियुक्त शासन के नोडल अफसर डाॅ हरीओम ने सोमवार को जिला अस्पताल और महिला अस्पताल का निरीक्षण भी किया। इस दौरान उनके सामने डाॅक्टरों द्वारा प्राइवेट प्रैक्टिस का मुददा भी जोरशोर से उठा। हालांकि डाॅ. हरीओम का कहना था कि उपलब्ध संसाधनों में दोनों अस्पताल बेहतर काम करते दिख रहे हैं।
डाॅ. हरीओम का इरादा नगर पालिका कार्यालय के भी निरीक्षण का था लेकिन उन्होंने बाद में यह इरादा टाल दिया। समीक्षा बैठक शुरू होने के पहले वे महिला अस्पताल गये। दोनों ही अस्पताल के सीएमएस उनके निरीक्षण प्रोग्राम से अवगत थे जिसकी वजह से उनकी निगाह में किसी तरह की कमी न आ पाये इसका बंदोबस्त काफी हद तक कर लिया गया था। महिला अस्पताल में पैथोलोजिस्ट न होने की जानकारी उन्हें दी गई। जिस पर उन्होंने चिंता जताई। उन्होंने निरीक्षण में अस्पताल के रजिस्टर उल्टे-पुल्टे। प्रसूताओं के रजिस्टर में नाम और पते अस्पष्ट दर्ज किये जाने को लेकर उन्होंने एक महिला चिकित्सक को फटकार लगाई।
इसके बाद उन्होंने जिला अस्पताल का निरीक्षण किया। अनुभवी सीएमएस डाॅ. वीवी आर्या ने उन्हीं मरीजों को आज वार्ड में रहने दिया था जो तोते की तरह पढ़ाये जा सकें। इसलिए मरीजों की ओर से तो कोई शिकायत नही की गई लेकिन पत्रकारों ने उनसे कहा कि बर्नवार्ड की हालत खराब है। आप इसे जरूर देखें। पहले नोडल अधिकारी ने इसकी हामी भर दी लेकिन बाद में यह कहकर मजाकिया लहजे में उन्होंने इसे टाल दिया कि मुझे तो ऐसी कोई तकलीफ नही है जिससे बर्नवार्ड के दर्शन करूं। प्रेस के लोगों को अगर कोई दिक्कत है तो आप इन्हें दिखाइये।
कैमरे के सामने उनसे जिला अस्पताल के डाॅक्टरों के प्राइवेट प्रैक्टिस में व्यस्त रहने और अस्पताल के मरीजों को देखने के लिए शिकमी डॅाक्टर छोड़ दिये जाने का जिक्र हुआ। डाॅ. हरीओम बोले मुझसे तो किसी ने ऐसी शिकायत नही की। अगर ऐसा है तो जांच कराकर कार्रवाई की जायेगी।

Share Button

कौन है सुखलाल? डाॅ. हरीओम को कहना पड़ा तू नालायक है

tu nal

डाॅ. हरीओम ही नही डीएम समेत जिले के वरिष्ठ अधिकारी भी अचंभे में

सर बुकलेट में पिछले वर्ष की रिपोर्ट शामिल हो गई है।
उरई। तू नालायक है, तू काम करना नही जानता। यह जिक्र किसी प्राइमरी पाठशाला में फिसडडी बच्चे को डांटते मास्टर साहब के बारे में नही है। बल्कि यह विकास भवन में वरिष्ठ आईएएस अधिकारी डाॅ. हरीओम की समीक्षा क्लास का आंखों देखा हाल है। जिसमें जल निगम के अधिशाषी अभियंता सुखलाल को कई किस्तों में उन्होंने इसी तरह के अलफाजों से नवाजा। यह दूसरी बात है कि इतनी लताड़ खाने के बावजूद सुखलाल का सुख चैन बैठक के आखिरी तक टस से मस नही दिखा।
तेज तर्रार सचिव माने जाने वाले डाॅ. हरीओम की समीक्षा बैठक को लेकर जिले के सारे अधिकारी बोर्ड के परीक्षार्थी की तरह तैयारी करने में पसीना-पसीना थे। लेकिन दूसरी ओर जल निगम के अधिशाषी अभियंता ने जिस बेफिक्री के साथ उनकी बैठक को ट्रीट किया उसका नमूना देखकर डाॅ. हरीओम ही नही डीएम समेत जिले के वरिष्ठ अधिकारी भी अचंभे में पड़ गये। शुरूआत समीक्षा बैठक के लिए तैयार की गई बुकलेट में जल निगम की प्रगति रिपोर्ट में दर्ज उटपटांग ब्योरे से हुई। अधिशाषी अभियंता ने जिन परियोजनाओं को कंपलीट बताया रिपोर्ट में दर्ज था कि उन पर काम चल रहा है। डाॅ. हरीओम ने पूंछा कि यह क्या माजरा है तो अधिशाषी अभियंता बुकलेट के पन्ने पलटने लगे। पहले उन्होंने सफाई दी कि प्रगति रिपोर्ट को उनकी छुटटी के समय विभाग के सहायक अभियंता ने तैयार करके डीएसटीओ को भिजवा दिया था। जिसकी वजह से यह गड़बड़ी हो गई। हैरत में पड़े डाॅ. हरीओम ने कहा कि ये आपके विभाग में कैसे काम चल रहा है। आपके एई ने गलत रिपोर्ट तैयार कर दी, इसके बाद उस पर आपके हस्ताक्षर कर दिये, मुहर लगा दी यह कैसे संभव है। अधिशाषी अभियंता के पास इसका कोई जबाव नही था। बात आई गई होने वाली थी कि कुछ ही देर बाद अधिशाषी अभियंता फिर खड़े हो गये। जैसे उन्हें कुछ इलहाम हुआ हो। बोले सर बुकलेट में पिछले वर्ष की रिपोर्ट शामिल हो गई है। अब तो स्वाभाविक रूप से डाॅ. हरीओम का धैर्य जबाव दे गया और उन्होंने अधिशाषी अभियंता को उन शब्दों में जलील करना शुरू कर दिया जिन्हें आजकल बच्चों को डांटने में भी इस्तेमाल नही किया जाता। लेकिन बात यहीं खत्म नही हो गई। लोहिया समग्र ग्रामों की पेयजल योजनाओं की चर्चा चली तो पहले जल निगम के अधिशाषी अभियंता ने कुछ आंकड़े दिये लेकिन इसके बाद अचानक बोले कि ग्रामों की पेयजल परियोजनाओं के बारे में उनका विभाग कैसे बता सकता है। यह जानकारी तो पंचायती राज विभाग दे पायेगा। यही बात उन्होंने कितने ग्रामों में हैण्डपंप खराब हैं यह पूंछे जाने पर कह दी। इसके बाद तो डाॅ. हरीओम हत्थे से उखड़ गये। उन्होंने डीएम से कहा कि आप 400 हैंडपंप रीबोर कराये जाने की जानकारी दे रहीं हैं लेकिन इन्होंने एक भी नही कराया होगा। आप सत्यापन करायें तांकि वस्तुस्थिति की जानकारी हो सके। उन्होंने कहा कि जिले में 2500 हैंडपंप खराब होने की आप जानकारी दे रहीं हैं लेकिन अगर जल निगम की जानकारी पर विश्वास किया जाये तो इन्हें 400 हैंडपंप रीबोर कराने में चार महीने लग गये। इस स्पीड में 2500 हैंडपंपों के लिए कितना टाइम ले लेंगे यह सोचने वाली बात है। डाॅ. हरीओम ने बेलाग कहा कि इनसे ठेकेदारों की सूची लें इन्होंने एक भी हैंडपंप रीबोर नही कराया होगा। यह काम नही कराते केवल बजट हड़पते हैं। एक ओर डाॅ. हरीओम गुस्से से लाल-पीले हुए जा रहे थे दूसरी ओर जल निगम के अधिशाषी अभियंता सुखलाल ने चिकने घड़े को भी मात करने वाली शांति का परिचय देकर अन्य अधिकारियों को अचरज में डाल दिया।
बैठक में उरई से जालौन तक बन रहे फोरलेन की प्रगति की भी चर्चा हुई। लोक निर्माण विभाग के अभियंताओं ने बताया कि वन विभाग द्वारा पेड़ कटवानें में की जा रही देरी की वजह से कार्य प्रभावित हो रहा है। इस पर उन्होंने डीएफओ भीमसेन को जबाव देने के लिए कहा। तो पता चला कि भीमसेन झांसी में किसी बैठक में गये हैं। उनकी जगह एसडीओ आये हैं। डाॅ. हरीओम ने कहा कि वह एसडीओ से कोई बात नही करेंगे। भीमसेन की बेअदबी के लिए उनके खिलाफ नोटिस जारी करने के निर्देश उन्होंने दिये। बैठक में जिलाधिकारी संदीप कौर, मुख्य विकास अधिकारी एसपी सिंह, जिला विकास अधिकारी आरएस गौतम और लगभग सभी विभागाध्यक्ष उपस्थित थे।

Share Button

मस्जिद के भीतर मायावती के फोटो का पोस्टर चिपकाने से हुआ बबाल, पुलिस ने मौके पर पहुंचकर हालात संभाले

उरई। मस्जिद के भीतर राजनैतिक पार्टी का पोस्टर लगाने से विवाद भड़क गया। मामला इतना ज्यादा संगीन हो गया कि स्थिति संभालने के लिए पुलिस को मौके पर पहुंचना पड़ा। हालांकि पीड़ित पक्ष को इस बात का मलाल है कि शरीयत के खिलाफ काम करने से रोकने पर उसे जिस तरह की स्थिति झेलनी पड़ी उसकी कोई सजा दूसरे पक्ष को देना पुलिस गवारा नही कर रही।
मामला गोहन थाने की अजीतापुर ग्राम पंचायत अंतर्गत ग्राम कुतुबपुर का है। 26 जून को रात में तराबी के बाद किसी ने मस्जिद के भीतर बसपा सुप्रीमों मायावती का फोटो लगा पोस्टर लगा दिया। अब्दुल गफ्फार को इसे लेकर शाहिद अली पर शक हुआ। जिसकी वजह से उन्होंने शरीयत का हवाला देते हुए शाहिद अली के सामने विरोध प्रकट किया। जिसे लेकर रात में उनकी और शाहिद अली के बीच तूंतंू-मैंमैं हो गई बकौल अब्दुल गफ्फार सुबह शाहिद अली, शौकत अली, अख्तार अली कई अन्य लोगों के साथ उसके घर आ गये और गाली-गलौज करते हुए हमला करने के लिए दौड़े उसने दरवाजा बंद करके अपनी जान बचाई।
कुतुबपुर में तनाव की जानकारी मिलने पर गोहन के एसओ और ईंटों चैकी इंचार्ज फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। उन्होंने दोनों पक्षों को चेतावनी देते हुए थाने में बुलवाया। अब्दुल गफ्फार का कहना है कि वे तो थाने में पहुंचे लेकिन शाहिद अली ने एसओ की बात मानना गवारा नही किया। फिर भी पुलिस इस मामले में उसके खिलाफ कार्रवाई करने से कतरा रही है।

Share Button

छात्रवृति आवंटन में हेराफेरी के कारण बुन्देलखण्ड के हजारों छात्रों का भविष्य अधर में है

 

27orai030 छात्रवृति न मिलने से बुन्देलखण्ड के हजारों छात्र कालेज छोड़ने को मजबूर
0 बुन्देलखण्ड दलित अधिकार मंच ने किया राज्य व्यापी आन्दोलन का आहवान
उरई। एक ओर बुन्देलखण्ड में सूखा, भुखमरी, पलायन के कारण दलित वंचित परिवारों के हालात दिन प्रतिदिन बिगड़ रहे है वहीं दूसरी ओर व्यापक स्तर पर छात्रवृति आवंटन में हेराफेरी के कारण बुन्देलखण्ड के हजारों छात्रों का भविष्य अधर में है। आज वो छात्र कालेज छोड़ने को मजबूर हो रहे है। पूरे प्रदेश व बुन्देलखण्ड में इस व्यापक समस्या को लेकर बुन्देलखण्ड दलित अधिकार मंच राष्ट्रीय दलित मानवाधिकार अभियान दिल्ली ने विभिन्न कालेजों के दलित स्टूडेंट लीडरों व समाजसेवी संगठनों के साथ जालौन रोड स्थिति पंचशील बौद्ध विहार में चिंतन किया।
इस चिंतन बैठक में उच्च शिक्षा में सरकार द्वारा दिये जा रहे छात्रवृति एंव छतिपूर्ति न मिलने का मुददा छाया रहा। जिसमें बी.एड. प्रथम वर्ष के दलित छात्र उमेश सिंह ने बताया कि सारे कागजात सही रहते हुये भी उसकी आज तक स्काॅलरसिप नही आई वह कई बार कालेज एंव सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगा चुका है। वही कालेज प्रशासन द्वारा उसे फीस जमा करने का लेटर थमा दिया गया है। छात्र आकाश, बृजेन्द्र, नन्द कुमार, सुरभि चैधरी, नीलिमा ने कहा कि अब हम लोग फीस कहां से भरे क्योंकि हमारे घरों की आर्थिक स्थिति ठीक नही है हम क्या करें? इस तरह के जनपद में सैकडों दलित व वंचित समुदाय के छात्रों को कालेज प्रशासन द्वारा फरमान जारी करके भारी भरकम फीस जमा करने का नोटिस थमाया गया है। आज हालात यह है कि यह छात्र किसी तरह फीस भरे या आगे पढ़ाई करने का सपना छोड दें।
इस बैठक में दिल्ली से राष्ट्रीय दलित मानवाधिकार अभियान से आये शोधकर्ता तारापद प्रधान ने बताया कि आज पूरे देश में सुनियोजित ढंग से दलित समुदाय के छात्रों के साथ छात्रवृति को लेकर बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी की जा रही है। वही उत्तर प्रदेश में लाखों दलित छात्रों की स्काॅलरसिप रोककर उनके उच्च शिक्षा के सपनों को कुचलने का काम किया जा रहा है। शोधकर्ता ने बताया कि राज्य एंव केन्द्र सरकार के आन्तरिक विवाद के कारण स्पेशल कम्पोनेन्ट प्लान के तहत उच्च शिक्षा के लिये दी जाने वाली 11 हजार करोड से अधिक की धनराशि मन्त्रालय में ही रूकी पड़ी हुई है। वही देश में रोहित बेमुला जैसे हजारों छात्र आत्महत्या को मजबूर होते है। समाजसेवी प्रमोद कुमार गौतम, मनोज कुमार, शिवराम पाल, विमल कुमार व के.के. प्रजापति सर ने कहा कि सरकारी तन्त्र एंव निजी कालेज के मठाधीशों की मिलीभगत से आज जिस तरह का व्यवहार हमारे दलित वंचित छात्रों के साथ किया जा रहा है। जिससे हमारे छात्र आत्महत्या जैसे कदम उठाने को मजबूर होते है। शिवकुमार, सुधा गौतम व किरन चैधरी ने कहा कि ऐसे हालातों में उच्च शिक्षा तक पहुंचने वाली दलित बच्चियों के स्वालम्बी बनने का सपना चकना चूर हो जायेगा। बुन्देलखण्ड दलित अधिकार मंच के संयोजक कुलदीप कुमार बौ़द्ध ने कहा कि दलित व वंचित छा़़त्रों के साथ होने वाले इस तरह के शोषण के खिलाफ व उनके हक अधिकार व सम्मान के लिये हम सब स्टूडेन्ट लीडर व सामाजिक संगठनों को मिलकर प्रदेश व्यापी आन्दोलन करना होगा। मंच अपनी यूथ बिंग के साथ पूरे बुन्देलखण्ड सहित प्रदेश में जगह-जगह छात्रों के साथ सभा, सेमिनार कर उन्हे संगठित करते हुये स्काॅलरसिप दिलाने का लड़ाई लडेगा। इस बैठक में विभिन्न महाविद्यालयों व कालेजों से आये 45 स्टूडेन्ट व जन संगठनों के लीडरों ने हिस्सा लिया।

Share Button

दो मासूम बच्चियों को हविश का शिकार बनाने की कोशिश एक हैवान पकड़ा, दूसरा फरार

जालौन-उरई। कस्बे में अलग-अलग जगह दो मासूम बच्चियों को हविश का शिकार बनाने की कोशिश हुई। इनमें से एक के आरोपी को भीड़ ने पुलिस के हवाले कर दिया। जिसे जेल भेज दिया गया है। जबकि दूसरे वाकये में आरोपी भाग निकला।
मोहल्ला खटीकान में रविवार को शाम 7 बजे बाहर खेल रही आठ वर्षीय बालिका को टाॅफी के बहाने फुसलाकर रिजवान घर के अंदर लाया और उससे अश्लील हरकतें करने लगा। जिससे बच्ची चिल्ला पड़ी। इस पर परिजन और मोहल्ले के लोग दौड़कर मौके पर आ गये। उन्होंने रिजवान को पकड़ लिया। और पीटते हुए पुलिस के हवाले कर दिया। बच्ची के परिजनों की तहरीर पर मुकदमा कायम कर पुलिस ने उसे जेल भेज दिया।
उधर मोहल्ला तोपखाना में घर के बाहर खेलती सात वर्षीय बालिका को मोहल्ले का ही युवक नफीस बहलाकर घर के अंदर ले गया। उसकी नीयत डावाडोल थी लेकिन बच्ची के चिल्ला पड़ने से वह अपने नापाक इरादों में कामयाब नही हो पाया और भाग निकला। बाद में बच्ची के परिजनों की तहरीर पर नफीस के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर पुलिस ने उसकी गिरफ्तारी के लिए कई जगह दबिश डाली।

Share Button

साफ-सफाई करते समय प्लग लगे कूलर झाडू़ लगाते टच हुई महिला के प्राण पखेरू उड़े

उरई। घर की साफ-सफाई करते समय महिला कूलर की बाॅडी से टच हो गई। कूलर में करंट दौड़ रहा था। जिसमें महिला चिपक गई और जब तक घरवाले देख पाते तब तक तड़पते हुए उसकी जान निकल गई।
जालौन कोतवाली के ग्राम उदोतपुरा में अशोक राठौर की पत्नी मुन्नी देवी घर में काम कर रहीं थी। पास में ही कूलर रखा था जिसका प्लग लगा हुआ था। मुन्नी देवी को यह आभास नही था कि अर्थिंग के कारण कूलर में तेज करंट बह रहा है। झाड़ू लगाते-लगाते जैसे ही वे कूलर के नजदीक पहुंची करंट ने उन्हें पकड़ लिया और उसमें चिपककर मौके पर ही उनकी जान चली गई।

Share Button

महिला ने कुए में लगाई छलांग, मौत

उरई। मानसिक रूप से असंतुलित महिला ने कुए में कूंदकर आत्महत्या कर ली। सिरसा कलार थाने के ग्राम सरेनी के लल्लू निषाद की पत्नी भूरी देवी (35वर्ष) की मानसिक हालत ठीक नही थी। उसने रात में अचानक कुए में छलांग लगा दी। सुबह उसका शव कुए में मिलने पर घर में कोहराम मच गया। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

Share Button

ट्रैक्टर पलटने से युवक की मौत परिजनों को क्यों है हत्या का संदेह

0 पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने पर कार्रवाई आगे बढ़ाई जायेगी

0 सरसरी तौर पर मामला एक्सीडेंट का ही प्रतीत होता है

उरई। जानिये ट्रैक्टर पलटने से युवक कीमौत होने के मामले में परिजनों को क्यों है हत्या का संदेह मामला कदौरा थाना क्षेत्र के चतेला ग्राम का है। कल्लू का 24 वर्षीय पुत्र नाजिम अपनी खोई हुई भैंस तलाशने के लिए गांव के लोगों के साथ ट्रैक्टर से गया था। बारिश की वजह से फिसलन हो जाने के कारण ट्रैक्टर पलट गया। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। दूसरी ओर परिजनों का कहना है कि प्रधानी की चुनाव की रंजिश की वजह से नाजिम की हत्या की गई है। उन्होंने सोसाइटी अध्यक्ष सहित पांच लोगों को नामजद करते हुए प्रार्थना पत्र दिया है।
कदौरा के प्रभारी निरीक्षक रुद्र कुमार सिंह का कहना है कि सरसरी तौर पर मामला एक्सीडेंट का ही प्रतीत होता है। इसके बावजूद प्रार्थना पत्र की जांच कराई जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने पर कार्रवाई आगे बढ़ाई जायेगी।

Share Button